sach ka aaina

अपने किरदार को जब भी जिया मैंने, तो जहर तोहमतों का पिया मैंने, और भी तार-तार हो गया वजूद मेरा, जब भी चाक गिरेबां सिया मैंने...

210 Posts

929 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12009 postid : 782586

जिस सेना को पानी पी-पी कर कोसा करते थे...

Posted On: 9 Sep, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

sunita

जिस सेना को पानी पी-पी कर कोसा करते थे,

कश्मीर पर जब भी मुसीबत आई है भारतीय सेना ने ही साथ दिया है रात दिन राहत के काम में लगी सेना और एनडीआरएफ की टीम ने हजारों लोगों को बचाया है फिर भी यहाँ की आवाम पाकिस्तान का गुणगान करती है ! जम्मू कश्मीर में पिछले 60 साल का सबसे भयावह कुदरती कहर टूटा  है चिनाब, झेलम सहित लगभग सभी नदियां में पानी बेहद बढ़ जाने से बाढ़ ने और भयंकर रूप ले लिया। पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाले कश्मीरी, राष्ट्रगीत पर प्रतिबंध लगाने वाले कश्मीरी, भारतीय सैनिको की हत्या करने वाले, उग्रवादियों को पनाह देने वाले कश्मीरीयों की दहलीज पर आज जब मौत पांव पसार कर खड़ी है तो गजवा ए हिन्द की रट लगाने वाला हाफिज सईद उन्हें बचाने का कोई प्रबंध क्यों नहीं कर रहा। इन हालातों को देखकर जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी और हुर्रियत के नेताओं को शर्म क्यों नहीं आती, जबकि आज पूरा प्रदेश डूब रहा है और ये सब गायब हैं ! अब अगर इतनी भारी मुसीबत के चलते भी अगर इन नेताओं के मूर्ख समर्थकों की आंखें ना खुलें तो फिर इनका भगवान ही मालिक है !
कश्मीर के वाशिंदों को ये समझना चाहिए कि कौन है उनके साथ ? भारत सरकार या अलगाववादी ! जिस सेना को ये पानी पी पी कर कोसते है, वो इन चन्द दिनों में 22,000 से ज्यादा लोगो की जान बचा चुकी है कश्मीरिओ को पूछना चाहिए कहाँ है यासीन और बाकि के सब, जो खुद को ही नेता मानते है, कितने लोगो को बचाया उन्होंने ? कितनो को शरण दी ? कितनो को खाना दिया  ? क्या कोई मीडिआ वाला पूछेगा उनसे ? और कितनी मदद पाकिस्तान दे रहा है जिसकी जिंदाबाद करते है कुछ लोग ?
अपनी जिंदगी को दांव पर लगाकर मसीहा के रूप में बाढ़ में फंसे लोगो को बचा रहे है तो वो केवल भारतीय सैनिक है। अलगाववादी सोच के नुमाइन्दो के मुंह पर यह मानवता का जोरदार तमाचा साबित हो रहा है इस अभियान से जुड़े वे सभी सैनिक असैनिक जो जान जोखिम मे डाल इस आपदा से पीड़ितों को उबार रहे है !!! जिस भारतीय सेना को हिकारत और नफरत की नज़रो से अलगाववादी सोचो के समर्थक देखते थे आज उन्हे सेना किसी फ़रिश्ते से कम नज़र नही आ रही ! सारा देश इन जवानो के जज्बे को सलाम कर रहा है….. सरकार ने बाढ़ सहायता मुहैया कराने मे जो तत्परता दिखाई है, उसकी सर्वत्र सराहना हो रही है, हमे अपने जवानों पर नाज है कि वे देश के दुश्मनों को तो धूल चटाते ही है साथ ही देश की आपदा में भी डटकर अपना कर्तव्य निभाते है !………
आई मुसीबत कश्मीर की धरती पर
कहाँ हैं अलगाववादी,
चंहु और मची है त्राहि-त्राहि,
दिखे है बस पानी ही पानी !!
अब कहाँ हुर्रियत गयी,
कहाँ पर बैठा है छुपा, गिलानी
जिस सेना को पानी पी-पी कर कोसा करते थे,
उस सेना ने लगा दी, अपनी जान की बाजी
बनी है सेना आज मसीहा
इन जवानो के जज्बे को सलाम ! ……

सुनीता दोहरे …..

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
September 19, 2014

सुनीता जी कश्मीर के लोग बदलने वाले नही हैं जहाँ दीनी सियासत का बोलबाला होता हैं वहाँ कुछ बदलाव आने वाला नहीं है बहुत अच्छा लेख डॉ शोभा

    sunita dohare Management Editor के द्वारा
    September 21, 2014

    Shobha, जी , सादर प्रणाम ! अआप्का बहुत-बहुत आभार !!!

jlsingh के द्वारा
September 18, 2014

शायद अब भी अलगाव- वादियों का मन बदल जाय …पर कहाँ अभी भी वे पत्थरों से स्वागत करते हैं …जो भी हो भारतीय सेना के अपने कर्तव्य स्तुत्य हैं, उनकी वे जानें इन जवानो के जज्बे को सलाम ! …

अवी के द्वारा
September 11, 2014

सुन्दर लेख सुनीता जी| धन्यवाद| इस त्रासदी से कुछ अच्छा होना है तो यही की कश्मीरियों के मन में भारत और भारतीय सेना के प्रति जो नफ़रत है वो इस बाढ़ में बह जाये | राहत और बचाव के बाद जब कश्मीर फिर से संवर रहा हो तब कश्मीरी लोग इन अलगाववादी तत्वों को सिरे से नकार दें और कश्मीर के साथ अपनी मानसिकता भी संवर लें| | सुन्दर लेख के लिए बधाई

    sunita dohare Management Editor के द्वारा
    September 14, 2014

    अवी जी, सादर प्रणाम , आपका बहुत बहुत आभार !!!!

sadguruji के द्वारा
September 10, 2014

जिस सेना को पानी पी-पी कर कोसा करते थे, उस सेना ने लगा दी, अपनी जान की बाजी बनी है सेना आज मसीहा इन जवानो के जज्बे को सलाम ! आदरणीया सुनीता दोहरे जी ! इस सार्थक और सच्चाई से भरे लेख के लिए सादर अभिनन्दन और बधाई !

    sunita dohare Management Editor के द्वारा
    September 10, 2014

    sadguruji जी, नमस्कार , मेरी पोष्ट पर आपका दिल से स्वागत है सादर आभार !!!!

pkdubey के द्वारा
September 10, 2014

अकाट्य सत्य आदरणीया ,बहुत विषद लेख,सादर आभार .

    sunita dohare Management Editor के द्वारा
    September 10, 2014

    pkdubey जी, सादर प्रणाम , आपका बहुत बहुत आभार !!!!


topic of the week



latest from jagran